Trending

मकर संक्रांति 2024 भविष्यवाणियां: सूर्य के मकर राशि में गोचर का सभी राशियों पर क्या प्रभाव पड़ेगा

[ad_1]

2024 में मकर संक्रांति, जो लीप वर्ष में 15 जनवरी को होगी, महत्वपूर्ण है क्योंकि सूर्य मकर राशि में गोचर करता है। ज्योतिषीय भविष्यवाणियों के अनुसार, आइए जानें कि हिंदू त्योहार के इस शुभ समय के दौरान यह बदलाव मेष से मीन तक सभी 12 राशियों को कैसे प्रभावित करेगा।

आइए जानें कि हिंदू त्योहार के इस शुभ समय के दौरान सूर्य का मकर राशि में गोचर मेष से मीन तक सभी 12 राशियों को कैसे प्रभावित करेगा। (फ्रीपिक)
आइए जानें कि हिंदू त्योहार के इस शुभ समय के दौरान सूर्य का मकर राशि में गोचर मेष से मीन तक सभी 12 राशियों को कैसे प्रभावित करेगा। (फ्रीपिक)

मेष (21 मार्च से 19 अप्रैल)

मकर संक्रांति के दौरान, आप कार्यस्थल पर पहचान चाहते होंगे। लेकिन सावधान रहें क्योंकि इसकी बहुत अधिक चाहत आपके मालिकों के लिए परेशानी का कारण बन सकती है। और अगर आप शादीशुदा हैं तो आपकी सास के साथ कुछ परेशानियां हो सकती हैं। साथ ही, आपकी नौकरी की राह थोड़ी भ्रमित करने वाली लग सकती है, इसलिए मेष राशि वालों को इस दौरान सावधान रहने और चीजों पर विचार करने की जरूरत है।

अमेज़न सेल का मौसम आ गया है! अभी खर्च करो और बचाओ! यहाँ क्लिक करें

वृषभ (20 अप्रैल – 20 मई)

सूर्य के मकर राशि में गोचर के दौरान सफलता के लिए आज्ञाकारिता और अनुशासन पर ध्यान देने की सलाह दी जाती है। ऐसी संभावना है कि कुछ लोग लंबी यात्रा शुरू कर सकते हैं, संभवतः दूसरे देश में भी जा सकते हैं। पिता के साथ संबंधों पर नज़र रखें, क्योंकि कुछ तनाव हो सकता है, और उनके स्वास्थ्य पर ध्यान देना आवश्यक है।

मिथुन (21 मई – 20 जून)

साझेदारी वाले व्यवसायों को इस दौरान अप्रत्याशित सफलता मिल सकती है। स्वास्थ्य संबंधी मामलों पर ध्यान देना ज़रूरी है, क्योंकि अप्रत्याशित चोट लग सकती है, इसलिए सतर्क रहें। विरासत से लाभ मिलने की संभावना है, और यदि आप अनुसंधान या ज्योतिष में शामिल हैं, तो इस अवधि के दौरान खोजें आपके सामने आ सकती हैं।

कर्क (21 जून – 22 जुलाई)

आज के दिन रोमांटिक रिश्तों में असहमति का सामना करना पड़ सकता है। अपने जीवनसाथी के स्वास्थ्य पर ध्यान देना आवश्यक है, क्योंकि अनुबंध संबंधी मुद्दों के कारण व्यावसायिक साझेदारी में समस्याएँ आ सकती हैं। मकर संक्रांति के समय अपने व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन दोनों में जिम्मेदार होना एक अच्छा विचार है।

सिंह (23 जुलाई – 22 अगस्त)

ग्रहों की स्थिति से संकेत मिलता है कि करियर के अवसर उज्ज्वल हो सकते हैं, जिससे अधिक जिम्मेदारियों के साथ नए अवसरों के द्वार खुलेंगे। हालाँकि स्वास्थ्य संबंधी कुछ छोटी-मोटी चिंताएँ हो सकती हैं, लेकिन सुधार जल्दी होने की उम्मीद है। सिंह राशि वालों के लिए इस अवधि के दौरान नियमित दिनचर्या बनाए रखने और शारीरिक व्यायाम बनाए रखने की सलाह दी जाती है।

कन्या (23 अगस्त – 22 सितंबर)

कन्या राशि के जातकों में मकर संक्रांति के दौरान नए ज्ञान की खोज करने की इच्छा उत्पन्न हो सकती है। हालाँकि, संभावित नुकसान से बचने के लिए शेयर बाजार में लेन-देन करते समय सतर्क रहना महत्वपूर्ण है। बच्चों को स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का अनुभव हो सकता है, और उन्हें सहायता की आवश्यकता हो सकती है। इस अवधि में रिश्तों में कुछ उथल-पुथल भी हो सकती है।

तुला (23 सितंबर – 22 अक्टूबर)

ज्योतिषीय भविष्यवाणियों के अनुसार, मकर संक्रांति उनके भावनात्मक जीवन में असंतोष की भावना ला सकती है। भूमि संबंधी मामलों में निवेश को लेकर सतर्क रहने की सलाह दी जाती है। माता के स्वास्थ्य को लेकर चिंताएं उत्पन्न हो सकती हैं और इस दिन करियर के मोर्चे पर अप्रत्याशित बदलाव होने की संभावना है।

वृश्चिक (23 अक्टूबर – 21 नवंबर)

जो लोग राशि चक्र सूची में सातवीं राशि के अंतर्गत आते हैं, उन्हें अप्रत्याशित यात्राओं से जूझना पड़ सकता है, चाहे वह व्यक्तिगत हो या काम से संबंधित। दस्तावेज़ पढ़ते और हस्ताक्षर करते समय अतिरिक्त सावधानी बरतना महत्वपूर्ण है। पारदर्शी संचार महत्वपूर्ण हो जाता है, खासकर छोटे भाई-बहनों के साथ अच्छे रिश्ते बनाए रखने में।

धनु (22 नवंबर – 21 दिसंबर)

धनु राशि वाले इस मकर संक्रांति अवधि के दौरान भौतिक लाभ की उम्मीद कर सकते हैं, अप्रत्याशित धन उनके पास आएगा। स्वास्थ्य का अतिरिक्त ध्यान रखना, विशेष रूप से आंख या गले के संक्रमण से बचाव करना महत्वपूर्ण है। सलाह दी जाती है कि इस दौरान अनावश्यक बहस से बचें और शब्दों का चयन सोच-समझकर करें।

मकर (22 दिसंबर – 19 जनवरी))

मकर राशि वालों के लिए, मकर संक्रांति के दौरान उनके व्यक्तित्व में आंतरिक विरोधाभास सतह पर आ सकते हैं। इससे उनके निजी जीवन में भ्रम और संभावित गड़बड़ी हो सकती है। इस अवधि में सावधानी के साथ आगे बढ़ना उनके लिए महत्वपूर्ण हो जाता है।

कुंभ (20 जनवरी – 18 फरवरी)

मकर संक्रांति के दौरान कुंभ राशि वालों को मानसिक शांति और नींद में व्यवधान का सामना करना पड़ सकता है। कुछ लोग विदेश में व्यावसायिक प्रतिबद्धताएँ निभा सकते हैं, इसलिए आँखों से संबंधित बीमारियों के प्रति सतर्क रहना महत्वपूर्ण है। इस अवधि के दौरान परोपकार या धर्मार्थ गतिविधियों में संलग्न होने को प्रोत्साहित किया जाता है।

मीन (19 फरवरी – 20 मार्च)

हिंदू त्योहार के इस शुभ समय के दौरान मीन राशि वालों को वित्तीय लाभ मिलने की संभावना है। हालाँकि, बड़े भाई-बहनों के साथ संभावित मतभेदों के लिए तैयार रहें। सलाह दी जाती है कि सतर्क रहें और दूसरों पर आंख मूंदकर भरोसा न करें, क्योंकि कोई पुराना दोस्त आपके भरोसे को धोखा दे सकता है। परिवार में बच्चे उच्च शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं और इस राशि वालों की आय में वृद्धि होने की संभावना है।

[ad_2]
CLICK ON IMAGE TO BUY

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d